Sarkari Karmchari Transfer Policy: सरकारी कर्मचारियों का तबादला: नए नियम लागू

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

Sarkari Karmchari Transfer Policy: राज्य सरकार सरकारी कर्मचारियों के लिए नई ट्रांसफर पॉलिसी बनाई जा रही है जिसके तहत अब सभी ट्रांसफर नई नीति के मुताबिक किए जाएंगे।

Sarkari Karmchari Transfer Policy
Sarkari Karmchari Transfer Policy

केंद्र सरकार के तर्ज पर अब राज्य सरकार भी सरकारी कर्मचारी और अधिकारियों के लिए ट्रांसफर नीति बनाने की तैयारी में है इस उद्देश्य के लिए सरकार ने एक सामान्य मानक संचालन प्रक्रिया सोप जारी की है इस सोप के मुताबिक किसी भी कर्मचारी का 3 साल की सेवा पूरी करने से पहले ट्रांसफर नहीं किया जाएगा इसके अतिरिक्त प्रत्येक कर्मचारी को अपने सेवा कार्यकाल के हिस्से के रूप में ग्रामीण क्षेत्रों में कम से कम 2 साल की सेवा करने की आवश्यकता होगी।

इस कॉमन सोप को सभी विभागों में भेज भिजवाया गया है और विभाग प्रमुख सोप पर फीडबैक देने के लिए अधिकारियों के साथ चर्चा करेंगे राज्य के भीतर ट्रांसफर को लेकर हर सरकार में विवाद उठते रहे हैं जिसके चलते सरकार को ऐसे विवादों को कम करने के लिए एक औपचारिक नीति पेश करनी पड़ी है।

नहीं ट्रांसफर नीति के नियम कुछ इस प्रकार हैं पहला नियम हर कर्मचारी को गांव के एरिया में 2 साल की सर्विस देनी होगी मतलब उसे 2 साल वहां पर काम करना होगा।   दूसरा नियम 3 वर्ष की सेवा पूरी करने से पहले किसी भी कर्मचारी का ट्रांसफर शुरू नहीं किया जाएगा।    तीसरा नियम कर्मचारियों को ट्रांसफर सक्षम पदों पर किया जाएगा ना तो उच्च और ना ही नीचे उचिया नीचे पदों पर ट्रांसफर नहीं किए जाएंगे।   चौथा नियम कर्मचारियों का ट्रांसफर 3 साल पूरे करने से पहले तभी किया जाएगा जब उनके खिलाफ कोई जांच चल रही हो वह किसी मामले में दोषी पाए गए तो यहां उन्हें प्रमोशन दिया हो।

इसके अलावा प्रोफेशनली अवधि के दौरान कर्मचारियों का ट्रांसफर नहीं किया जाएगा इसके अलावा जो कर्मचारी अपनी रिटायरमेंट के करीब है और उनकी रिटायरमेंट में तारीख में एक वर्ष के समय बचा है उनका ट्रांसफर नहीं किया जाएगा हालांकि यदि रिटायरमेंट के करीब कोई कर्मचारी ट्रांसफर चाहता है तो उनके अनुरोध को सुना जा सकता है।

यह नीति राज भवन विधान सभा सचिवालय और राज्य आयोग पर लागू नहीं होगी हालांकि इसे अन्य सभी विभागों में लागू किया जाएगा 2000 से कम कर्मचारी वाले विभाग सोप कोयथावत लागू करेंगे मतलब जल्दी से जल्दी लागू करेंगे जबकि 2000 से अधिक कर्मचारी वाले विभाग को अपने सुझावों को प्रशासनिक सुधार और विभाग के माध्यम से तैयार करके नीति में शामिल करने की छूट होगी यह नियम बोर्ड निगम सहायक कंपनियां या निकायों पर भी लागू होंगे।

विवाह घर्षाली जनवरी से 15 जनवरी तक ट्रांसफर के लिए वैकेंसी पदों की सूची ऑनलाइन पोर्टल पर प्रदान करेगा कर्मचारी ट्रांसफर के लिए 1 जनवरी से 28 जनवरी फरवरी तक आवेदन कर सकते हैं आवेदन प्राप्त होने के बाद 1 मार्च से 30 फरवरी तक काउंसलिंग आयोजित की जाएगी जिन जिलों में पोस्ट या स्थान पर काउंसलिंग के बाद पूर्व निर्धारित प्राथमिकताओं के आधार पर 30 अप्रैल तक ट्रांसफर सूची जारी की जाएगी कर्मचारी 2 वर्ष की सेवा से पहले ट्रांसफर के लिए आवेदन नहीं कर सकते हैं इस नियम के विकलांग कर्मचारी विधवाएं तलाकशुदा व्यक्ति एथलीट पति पत्नी के मामले और ला इलाज बीमारियों शामिल है।

Sarkari Karmchari Transfer Policy check

आप इस नियम से जुड़ी और जानकारी चाहते हैं या आगे कोई अपडेट आए तो इसके लिए आप हमारे व्हाट्सएप ग्रुप को ज्वाइन कर सकते हैं।

WhatsApp Group Join Now
Telegram Group Join Now

नमस्कार दोस्तों! मुझे पत्रकारिता के क्षेत्र में काम करने का 8 साल का अनुभव है। एक प्रतिष्ठित समाचार पत्र में काम करने के अलावा, मैंने एक न्यूज़ पोर्टल में भी 3 साल तक काम किया है, जहाँ मैंने शिक्षा, अपराध, राजनीति, व्यापार, ऑटोमोबाइल, गैजेट और मनोरंजन जैसे विषयों को कवर किया है। अब, मैं तेज़ी से उभरती हुई वेबसाइट GovtVacancyHub.Com पर काम कर रहा हूँ। मैं राजस्थान के एक छोटे से गाँव से हूँ जहाँ मैंने अपनी 10वीं कक्षा तक की शिक्षा पूरी की। बाद में, मैं शहर चला गया जहाँ मैंने अपनी 12वीं कक्षा पूरी की। मैंने अपनी कॉलेज की शिक्षा राजस्थान विश्वविद्यालय से प्राप्त की, जो उत्तर भारत का सबसे बड़ा सरकारी कॉलेज है। हमारा उद्देश्य लोगों तक तथ्यों के साथ सटीक समाचार पहुँचाना है।

Leave a Comment